दीदार की तलब हो तो नज़रे…..

दीदार की तलब हो तो नज़रे जमाये रख,
क्यूँकि नक़ाब हो या नसीब सरकता जरुर है।

 

Read More Miss You Shayari 

 

 

Spread the love

Leave a Reply