Chand Lamhon Ki Zindgani Hai

Chand Lamhon Ki Zindgani Hai,
Nafraton Se Jiya Nahi Karte,
Dushamano Se Guzarish Karni Padegi,
Dost Toh Ab Yaad Kiya Nahi Karte.

चंद लम्हों की जिंदगानी है,
नफरतों से जिया नहीं करते,
दुश्मनों से गुजारिश करनी पड़ेगी,
दोस्त तो अब याद किया नहीं करते।

Read More Frienship Shayari 

Leave a Reply