Dard Shayari

Mein Doob Ke Ubhara to bus ….

मैं डूब के उभरा तो बस इतना ही देखा है,
औरों की तरह तू भी किनारे पे खड़ा था..

 

Read More Dard Shayari 

Zakham Ban Jane Ki Aadat Hai…

जख्म बन जानेँ की आदत है उसकी,
रुला कर मुस्कुरानेँ की आदत है उसकी,
मिलेगेँ कभी तोँ खुब रूलायेँ उसको,
सुना है रोतेँ हूऐ लिपट जाने की आदत है उसकी.