Gulzar Shayari

Gulzar Shayari: गुलजार शायरी: हिंदी और उर्दू भाषा में जीवन और प्रेम पर गुलजार शायरी. Read the latest and best Gulzar Shayari and Poems / Poetry in Hindi and Urdu and share these Gulzar Shayari on Life, Gulzar Shayari on Love, Romantic Shayari by Gulzar Sahab in Hindi with your near and dear ones.

Is Dil Ka Kaha Mano…

इस दिल का कहा मनो एक काम कर दो
एक बे-नाम सी मोहब्बत मेरे नाम करदो
मेरी ज़ात पर फ़क़त इतना अहसान कर दो
किसी दिन सुबह को मिलो, और शाम कर दो..!!

 

Read More Gulzar Shayari 

Mere Dil Mein Ek ….

मेरे दिल में एक धड़कन तेरी हैं,
उस धड़कन की कसम तू ज़िन्दगी मेरी है,
मेरी तो हर सांस में एक सांस तेरी हैं,
जो कभी सांस जो रुक जाए तो मौत मेरी हैं.

 

Read More Gulzar Shayari 

Mere Dard Ko bhi …

 

मेरे दर्द को भी आह का हक़ हैं,
जैसे तेरे हुस्न को निगाह का हक़ है
मुझे भी एक दिल दिया है भगवान ने
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ हैं.

 

Read More Gulzar Shayari 

Gum Maut Ka Nahi Hai…

ग़म मौत का नहीं है,
ग़म ये के आखिरी वक़्त भी
तू मेरे घर नहीं है….
निचोड़ अपनी आँखों को,
के दो आंसू टपके..
और कुछ तो मेरी लाश को हुस्न मिले…..
डाल दे अपने आँचल का टुकड़ा…
के मेरी मय्यत पे कफ़न नही है……

Bahut Mushkil Se…

बहुत मुश्किल से करता हूँ,
तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,
पर गुज़ारा हो ही जाता है…

Bebas Nighao Mein Hai …

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,
और टपकते अश्क की हर बूंद
वफ़ा का इज़हार करती है……..
डूबा है दिल में बेवफाई का खंजर,
लम्हा-ए-बेकसी में तसावुर की दुनिया
मौत का दीदार करती है……….
ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की… और कहेना,
के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश
उनके आँचल का इंतज़ार करती है……….

Read More Gulzar Shayari 

Teri Yaado Ke Jo Aakhiri…

“तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे….”

Read More Gulzar Shayari 

Mehdhod hai duaiye …

महदूद हैं दुआएँ मेरे अख्तियार में..

हर साँस हो सुकून की तू सौ बरस जिये…

Read More Gulzar Shayari 

Bebas Nighao Mein Hai…

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,

और टपकते अश्क की हर बूंद

वफ़ा का इज़हार करती है……..

डूबा है दिल में बेवफाई का खंजर,

लम्हा-ए-बेकसी में तसावुर की दुनिया

मौत का दीदार करती है……….

ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की… और कहेना,

के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश

उनके आँचल का इंतज़ार करती है……….

 

Read More Gulzar Shayari 

Mein Tere Ishq Ki …

मैं तेरे इश्क़ की छाँव में…

जल-जलकर !

काला न पड़ जाऊं कहीं !

तू मुझे हुस्न की धूप का

एक टुकड़ा दे..!

 

Read More Gulzar Shayari